अवैध हथियारों का हब बनी दिल्ली

दिल्ली में अवैध हथियारों का कारोबार और तस्करी धड़ल्ले से हो रही है. पुलिस इसे पूरी तरह से रोक पाने में नाकाम साबित हो रही है. यह बात हम नहीं कह रहे बल्कि खुद इस बात की गवाही दे रहे हैं दिल्ली पुलिस के आंकड़े. जिनके मुताबिक साल 2018 में 1905 हथियार पुलिस ने जब्त किए हैं. जो वर्ष 2017 के मुकाबले करीब 35 फीसदी ज्यादा है.

दरअसल, साल 2018 में अवैध हथियारों से जुडे कुल 1540 मामले दर्ज हुए. जिनमें 1901 लोग गिरफ्तार हुए. साथ ही 1905 फायर आर्म्स बरामद किए गए. ये आंकड़े यह दर्शाने के लिए काफी हैं कि दिल्ली में बड़ी मात्रा में हथियार पकड़े जा रहे हैं, मामले भी दर्ज हो रहे हैं और आरोपी भी गिरफ्तार हो रहे हैं. लेकिन फिर भी बड़े पैमाने पर इन हथियारों सप्लाई हो रही है. हथियार आखिर में बदमाशों तक पहुंच रहे हैं, जिससे वे वारदातों को अंजाम दे रहे हैं.

यह भी साफ है कि ज्यादातर बरादम किए गए हथियार बिहार के मुंगेर और मध्य प्रदेश के धार और खरगोन से लाए गए हैं. साफ है कि कहीं ना कहीं पुलिस पूरी तरह से इनके नेटवर्क को ख़त्म करने में नाकाम साबित हो रही है. हालांकि पुलिस ये भी दावा कर रही है कि आपराधिक घटनाओं में हथियारों का इस्तेमाल साल 2017 के मुकाबले 2018 में कम हुआ.

पुलिस के मुताबिक साल 2017 में ऐसे 848 मामले सामने आए थे, जिनमें हथियारों का इस्तेमाल हुआ. जबकि साल 2018 में 752 मामले सामने आए हैं. लेकिन कहीं ना कहीं अगर बात की जाए हथियारों की बरामदगी की, तो साल 2018 में 35 फ़ीसदी ज्यादा हथियार बरामद किए गए हैं.
Category: ख़ुलासा

About ई टीवी उत्तराखंड

Etv Uttarakhand हम डिजिटल मीडिया प्लेटफॉर्म के द्वारा समाचारों, विचारों, साक्षात्कारों की नई श्रृंखला के साथ- साथ खोजी ख़बरों को कुछ हटकर पाठकों तथा दर्शकों के सामने लाने का प्रयास कर रहे है। हमारा ध्येय है कि हमारी खबरें जनसरोकारी हो, निष्पक्ष हों, सकारात्मक हो, रचनात्मक हो, पाठकों तथा दर्शकों का मार्गदर्शन करने में सहायक हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *