वन विभाग की भ्रष्टाचार की पोल खोलता वन कर्मी का ऑडियो हुआ वायरल

वन विभाग की भ्रष्टाचार की पोल खोलता वन कर्मी का ऑडियो हुआ वायरल

वनकर्मी से राजाजी पार्क के ग्रामीणों को रोजगार का संकट

अनुज नेगी
राजाजी टाइगर रिजर्व की गौहरी रेंज के वनकर्मियों को पार्क महकमे के आलाधिकारियों का वरदान प्राप्त हो चुका है कुछ दिन पूर्व गौहरी रेंज की ताँबाखानी बीट के वनकर्मी पर बाघो के अहम कोर जोन पर निजी सफारी चलाने के आरोप लगे थे। अब इसी वन कर्मी का एक ऑडियो फिर चर्चा का विषय बना हुआ है। तेजी से वायरल जिसमे वनकर्मी पार्क के भ्रष्टाचार की किस प्रकार से पोल खोल रहा है,
इस ऑडियो में यह वनकर्मी पार्क अधिकारियों द्वारा पार्क के पर्यटन ट्रैकों में चल रहे सफारी वाहनों किस तरह अनियमतायें कर रहे है उस पर चर्चा कर रहा है। किसी बाहरी व्यक्ति से चर्चा के दौरान छापा मारने को कह रहा है। दरसल मामला पार्क से जुड़े चीला व मोतीचूर के पर्यटन ट्रैकों से जुड़ा हुआ है।यंहा आने वाले वाहनों से लिए जाने वाले टैक्स को लेकर बाहरी व्यक्ति से छापेमारी करने की बात की जा रही है। हाल ही में इसी वन कर्मी द्वारा सरकारी नियमावली को ताक में रख कर अपने ही विभाग से सूचना के अधिकार के तहत यंहा चल रहे सफारी वाहनों के संबंध में जानकारी मांगी गई थी । मगर इसके रसूख के आगे विभाग का कोई भी अधिकारी इस पर कार्यवाही करने के बजाय उल्टा इसकी मिजाज पुरसी में लगा हुआ है।

आप को बता दे कोर जोन में सफारी चालने पर महकमे ने इस वनकर्मी को क्लीनचिट देते हुए संविदा कर्मियों को हटाया दिया था। कुछ दिनों पूर्व इस वनकर्मी की बीट में निजी सफारी चालक द्वारा सफारी चलाने की घटना को ETV उत्तराखंड ने प्रमुखता से प्रकाशित किया था । बाघो के लिए विख्यात इस कोर जोन में हो रही सफारी मामले में महकमे ने महज कुछ संविदा कर्मियों को हटा कर इस गंभीर प्रकरण की फाइल क्लोज़ कर दी । वन बीट कर्मचारी संघ का अध्यक्ष होने के नाते महकमे के आलाधिकारी भी इस मामले में कार्यवाही से बच रहे है। मगर क्या कर्मचारी नेता होने के कारण बाघो की सुरक्षा में लापरवाही बरती जा सकती है। यह बड़ा सवाल है। एक ओर राज्य सरकार बाघो के संरक्षण व संवर्धन के तमाम दावे कर रही है तो वन्ही दूसरी ओर नेता बने वनकर्मी के आगे पूरा महकमा कार्यवाही की बात छोड़ उसकी मिजाजपुर्सी में लगा हुआ है।

क्या कहते है सफारी टैक्सी यूनियन के अध्यक्ष सुरेश पंडत—

“पहले से ही हमे राजाजी पार्क वनकर्मी परेशान करते आ रहे है.जिसके कारण हमारे रोजगार पर संकट पैदा होने लगा है.वनकर्मी द्वारा हमरा उत्पीड़न किया जा रहा है।

क्या कहते है राजाजी पार्क के वन्यजीव प्रतिपालक अजय शर्मा—

“पार्क के सभी सफारी टैक्सियों को पार्क से अनुमति मिली है. सभी के कागज पूरे है,अगर वनकर्मी किसी भी प्रकार से टैक्सी स्वामियों का उत्पीड़न करता है तो उसके विरुद्ध सख्त कार्यवाही की जायेगी, रही बात वारयल ऑडियो की तो इसकी जाँच की जायेगी.अगर कोई भी कर्मचारी पार्क की छवि को खराब करता है तो उसके विरुद्ध सख्त कार्यवाही की जायेगी।”

क्या कहते है स्थानीय विधायक ऋतु भूषण खण्डूड़ी—

“इस प्रकार की घटनाएं बड़ी निन्दनीय है,पहले ही रोजगार की बड़ी परेशानी है,हमारी सरकार रोजगार जोड़ने के लिए अनेक प्रयास कर रही है,अगर राजाजी पार्क के अधिकारी द्वारा क्षेत्र में किसी भी तरह से ग्रामीणों को परेशान किया जाता है तो उनको बक्सा नही जायेगा।”

Category: उत्तराखण्ड Tags:

About ई टीवी उत्तराखंड

Etv Uttarakhand हम डिजिटल मीडिया प्लेटफॉर्म के द्वारा समाचारों, विचारों, साक्षात्कारों की नई श्रृंखला के साथ- साथ खोजी ख़बरों को कुछ हटकर पाठकों तथा दर्शकों के सामने लाने का प्रयास कर रहे है। हमारा ध्येय है कि हमारी खबरें जनसरोकारी हो, निष्पक्ष हों, सकारात्मक हो, रचनात्मक हो, पाठकों तथा दर्शकों का मार्गदर्शन करने में सहायक हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *