बिहार की डर्टी पॉलिटिक्स में अब ‘शूर्पणखा’ की एंट्री

पटना । बिहार के राजनेता यहां सियासत का स्तर गिराते जा रहे हैं। लगातार मर्यादा खोते बयान इसके प्रमाण हैं। देश की राजनीति में राम के बाद हनुमान की एंट्री हुई ही थी, लेकिन बिहार में तो पूरी रामायण कथा की स्क्रिप्ट ही लिख दी गई। बयानों की सियासत में अब जनता दल यूनाइटेड (जदयू) ‘शूर्पणखा’ को भी लेकर आ गया है। ज्यादा दिन नहीं हुए, जब राष्‍ट्रीय जनता दल (राजद) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बड़े लाल तेज प्रताप यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को ‘जहरीली डायन’ की संज्ञा दे डाली। ताजा मामला लालू के नीतीश को ‘दगाबाज’ कहने का है।
बिहार की राजनीति में नई नहीं बदजुबानी 
बिहार की राजनीति में बदजुबानी कोई नई बात नहीं। इसका क्लााइमेक्स  बीते लोकसभा व विधानसभा चुनावों में देखने को मिला था। इसके बाद मर्यादा की सीमाएं पार करते बयान कम तो हुए, लेकिन थमे नहीं। जैसे-जैसे चुनाव नजदीक आ रहे हैं, इस प्रवृत्ति में फिर तेजी आती जा रही है।
नीतीश को बता दिया दगाबाज 
बीते बुधवार की बात करें तो जब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने विपक्षी महागठबंधन के भविष्य पर सवाल उठाया तो इसपर भड़के लालू प्रसाद यादव ने उन्हें ‘पलटू दगाबाज’ की संज्ञा दे डाली। लालू ने अपने ट्वीट में यह भी लिखा कि ”ऐसे लोगों को शर्म भी नहीं आती।”
मीसा भारती को बताया ‘शूर्पणखा’ 
‘पलटू दगाबाज’ और बेशर्म तो वर्तमान सियासत की गंदी जुबान में कोई मायने ही नहीं रखते। हाल ही में बिहार की सियासत में जदयू प्रवक्ता नीरज कुमार के लालू परिवार पर दिए बयान ने भूचाल ला दिया था। इशारों ही में उन्होंने तेज प्राताप यादव व तेजस्वी यादव को रामायण के पात्रों का हवाला देते हुए मीसा भारती को ‘शूर्पनखा’ बता दिया। उन्होंने ट्वीट किया, ”…आज न केवल छोटा भाई सत्ता पर काबिज है, बल्कि बड़े भाई को वन-वन घूमने को बाध्य किया गया। ‘शूर्पणखा’ को एक क्षेत्र के मालिक बनाने पर भी कोई राजी नही.!! धन्य है प्रभु..! हरि ओम !!” इसके बाद जिसकी उम्मीद थी, वही हुआ। तेज प्रताप यादव हत्थे से उखड़ गये और उन्होंने चाचा नीतीश कुमार को कड़ी नसीहत के साथ चेतावनी भी दे डाली।

Category: भड़ास

About ई टीवी उत्तराखंड

Etv Uttarakhand हम डिजिटल मीडिया प्लेटफॉर्म के द्वारा समाचारों, विचारों, साक्षात्कारों की नई श्रृंखला के साथ- साथ खोजी ख़बरों को कुछ हटकर पाठकों तथा दर्शकों के सामने लाने का प्रयास कर रहे है। हमारा ध्येय है कि हमारी खबरें जनसरोकारी हो, निष्पक्ष हों, सकारात्मक हो, रचनात्मक हो, पाठकों तथा दर्शकों का मार्गदर्शन करने में सहायक हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *