फाउंडेशन ने की आठ निदर्शन स्कूलों की स्थापना 

By | April 3, 2019

अजीम प्रेमजी फाउंडेशन में अवसर – उन लोगों के लिए जो सामाजिक परिवर्तन लाने में गहन रुचि रखते हैं

रुड़की – अजीम प्रेमजी फाउंडेशन एक लाभ-निरपेक्ष संगठन है जो देश भर में स्कूली शिक्षा की गुणवत्ता और समता को बेहतर बनाने केलिए कार्यरत है और जिसका एक स्पष्ट सामाजिक उद्देश्य है दृ एक न्याय संगत, मानवीय, समतापूर्ण और संवहनीय समाज के निर्माण में योगदानकरना।

यह संगठन सामाजिक बदलाव और शिक्षा में गहरी रुचि रखने वालों को इस क्षेत्र में कार्य करने के अवसर प्रदान करता है। ऐसे अभ्यर्थी फाउंडेशन मेंएसोसिएट, स्कूल के शिक्षक या शिक्षक-प्रशिक्षकों के रूप में जुड़ सकते हैं।

फाउंडेशन का अधिकांश कार्य सरकारी स्कूल के शिक्षकों की क्षमता का संवर्धन करने के क्षेत्र में होता है। स्नातक या स्नातकोत्तर अभ्यर्थी जो अपने विषयकी अच्छी समझ और स्कूली शिक्षा में गहरी रुचि रखते हैं और जिन्हें न्यूनतम 2 वर्ष का शिक्षण अनुभव है, वे शिक्षक-प्रशिक्षक के रूप में, अजीम प्रेमजीफाउंडेशन के जिला संस्थानों में कार्य करने हेतु आवेदन कर सकते हैं। गैर सरकारी संस्थायें जो शिक्षा के क्षेत्र में कार्य करती हैं, उनमें पर्याप्त फील्ड काअनुभव रखने वाले अभ्यर्थी भी आवेदन कर सकते हैं। वे सरकारी स्कूल के शिक्षकों के साथ मिलकर काम करेंगे एवं उनकी व्यावसायिक क्षमताओं कानिर्माण करने और स्कूली शिक्षा तथा प्रारंभिक बाल्यावस्था शिक्षा के क्षेत्र में बेहतर शिक्षक बनने में मदद करेंगे।

फाउंडेशन ने आठ निदर्शन स्कूलों की स्थापना की है। ये स्कूल धमतरी (छत्तीसगढ़), सिरोही और टोंक (राजस्थान), उत्तरकाशी और उधमसिंह नगर(उत्तराखंड) और यादगीर (कर्नाटक) में संचालित हैं तथा बाड़मेर (राजस्थान) और कलबुर्गी (कर्नाटक) में प्रस्तावित किए गए हैं। इन स्कूलों में अभ्यर्थियोंको इस बात के अवसर मिलते हैं कि वे शिक्षक बनकर छात्रों को संवेदनशील तथा सरोकार रखने वाले नागरिकों के रूप में विकसित होने में मदद कर सकें।जिन्हें बच्चों के साथ काम करने में गहरी रुचि है और जो स्नातक एवं शिक्षण की डिग्री प्राप्त कर चुके हैं, वे इस पद के लिए आवेदन कर सकते है। अधिकजानकारी के लिए वेबसाइट देखें।

जिन अभ्यर्थियों ने हाल ही में स्नातकोत्तर उपाधि प्राप्त की है तथा जो स्थानीय भाषा के प्रयोग में सक्षम हों व उसका धाराप्रवाह रूप में उपयोग कर सकतेहों, उनके लिए भी यहाँ अवसर उपलब्ध हैं। एक वर्ष का एसोसिएट प्रोग्राम उन्हें ग्रामीण भारत के सरकारी स्कूलों में शिक्षा की वास्तविकताओं से पूरी तरहसे जुड़ने में सक्षम बनाता है और एक वर्ष के कार्यक्रम के बाद शिक्षकों के साथ काम करने के लिए तैयार करता है। इस एक वर्ष के दौरान ये एसोसिएटनिर्देशित कक्षा-शिक्षण में भाग लेंगे और शिक्षण-अधिगम प्रक्रियाओं एवं शिक्षा प्रणाली की बारीकियों के बारे में अपनी समझ विकसित करेंगे। इस वर्ष केएसोसिएट कार्यक्रम के लिए 15 अप्रैल तक आवेदन किए जा सकते हैं। जो छात्र वर्ष 2018 में स्नातकोत्तर उपाधि हासिल कर चुके हैं या वर्ष 2019 मेंस्नातकोत्तर उपाधि प्राप्त करने वाले हैं, वे आवेदन कर सकते हैं। जो लोग पहले ही इस साल की ऑन-कैंपस प्रक्रिया में भाग ले चुके हैं, वे अगले वर्ष केकार्यक्रम में आवेदन कर पायेंगे। अगले वर्ष के कार्यक्रम की सूचना जुलाई 2019 के अंतिम सप्ताह तक वेबसाइट पर प्रकाशित होगी।

 

उपर्युक्त पदों के लिए न्यूनतम वेतन 29,000 रुपये प्रति माह है।

सौरभ चैहान जो कि अजीम प्रेमजी फाउंडेशन में फील्ड रिक्रूटमेंट की जिम्मेदारी सँभालते हैं, उनका कहना है, ‘जो लोग लंबी अवधि के लिए संतोषप्रद कामकी तलाश में हैं, यह उन लोगों के लिए एक अच्छा अवसर है। यह उन लोगों के लिए है, जो जमीनी स्तर पर बदलाव लाने की प्रक्रिया में जुड़ना चाहते हैं औरसामाजिक परिवर्तन में सीधा योगदान करना चाहते हैं। उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि फाउंडेशन की कार्य-संस्कृति सर्वोत्कृष्ट है, जो कार्य करने कीसंतुष्टि में अभिवृद्धि करती है।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *