परीक्षा को शांतिपूर्ण ढ़ंग से सम्पन्न करने के लिए हुए बैठक

चम्पावत : किसी भी दशा में परीक्षा की सुचिता भंग न हो और परीक्षा नकलविहीन, शांतिपूर्ण ढ़ंग से सम्पन्न हो इसके लिए परीक्षा केन्द्र सुरक्षित भवन में स्थापित करें तथा निर्जन/एकान्त में बनाने से बचें। जिलाधिकारी एसएन पाण्डे मुख्य शिक्षा अधिकारी कार्यालय के सभागार में उत्तराखंड विद्यालयी शिक्षा परिषद की परिषदीय की वर्ष 2020 में होने वाली परीक्षा की बैठक ले रहे थे।

उन्होंने उप जिलाधिकारियों सहित, मुख्य शिक्षा अधिकारी सभी प्रधानाचार्यो, परीक्षा प्रभारियों से कहा कि पूर्व से ही यह सुनिश्चित कर लिया जाय कि अच्छे छवि वाले एवं विवादहीन विद्यालय को ही परीक्षा केन्द्र बनाया जाय। उन्होंने कहा कि विगत वर्षों में जिन विद्यालयों के विरूद्ध जिलाधिकारी, जिला शिक्षा अधिकारी, वाह्य केन्द्र निरीक्षकों के द्वारा केन्द्र की सुचिता के सम्बन्ध में प्रतिकूल आख्या या शिकायत की गयी हो अथवा परीक्षा केन्द्र पर प्रश्न पत्रों की गोपनीयता भंग हुई हो व विद्यालय के प्रबन्ध तंत्र एवं प्रधानाचार्य में कोई विवाद हो ऐसे विद्यालय को परीक्षा केन्द्र में सम्मिलित न करें।

जिलाधिकारी ने कहा परीक्षा केन्द्र के कक्षों में पर्याप्त रूप से प्रकाश व्यवस्था व फर्नीचर, परिसर में पेयजल, शौचालय की सुविधा अनिवार्य रूप से हो। उन्होंने कहा कि परीक्षा केन्द्रों निर्धारित करते समय प्रयास करें कि उसके आसपास आवागमन के साधन उपलब्ध हों और सुरक्षा हेतु चारदीवार अवश्य हो। जिलाधिकारी ने कहा कि पक्के एवं सुरक्षित कक्ष में प्रश्न पत्र रखे जायें और उसमें प्रवेश/निकास का एक ही दरवाजा हो साथ ही द्वितालक की व्यवस्था हो।

उन्होंने कहा कि यदि दो दरवाजे हों तो परीक्षाकाल में एक दरवाजे को स्थायी रूप से बन्द कर दिया जाय तथा प्रश्न पत्र रखे जाने हेतु स्टील की मजबूत अलमारी हो जिसमें पृथक-पृथक दो ताले लगाने हेतु मजबूत तथा सुरक्षित व्यवस्था हो।
मुख्य शिक्षा अधिकारी आरसी पुरोहित ने बताया कि जनपद में 8068 परीक्षार्थी हाईस्कूल व इण्टर मीडिएट की परिक्षाओं में सम्मिलित होंगे।

उन्होंने बताया कि हाईस्कूल संस्थागत में 3837 विद्यार्थियों में से 2028 बालिकाएं एवं 1755 बालक, हाईस्कूल परीक्षा में अशासकीय विद्यालयों के 185 बालक व 136 बालिकाएं तथा निजी विद्यालयों की 152 बालिकाएं एवं 315 बालक परीक्षा में सम्मिलित होंगे। उन्होंने बताया कि इण्टर मीडिएट संस्थागत में 1489 बालिकाएं एवं 1270 बालक, अशासकीय विद्यालयों के 84 बालिकाएं व 97 बालक तथा निजी विद्यालयों की 149 बालिकाएं व 354 बालक परीक्षा में सम्मिलित होंगे।

उन्होंने बताया कि परीक्षा केन्द्र बनाये जाने हेतु कम से कम 75 परीक्षार्थियों को होना आवश्यक है तथा जनपद में 37 परीक्षा केन्द्र शासकीय और 3 केन्द्र अशासकीय निर्धारित किये गये हैं। उन्होंने बताया कि केन्द्र व्यवस्थापक, परीक्षा प्रभारी एवं प्ररीक्षा प्रभारी के साथ दो शिक्षकों को सहायता के रूप में सम्बन्धित केन्द्र/विद्यालय के अध्यापकों की तैनाती की जायेगी, जिन्हें कक्ष निरीक्षकों के कार्यों से मुक्त रखा जायेगा।

उन्होंने बताया कि जिस परीक्षा केन्द्र में बालकों की अधिकतम संख्या अथवा बालक और बालिकाओं के मिश्रित केन्द्र की स्थिति में एक पारी में अधिकतम मिश्रित संख्या 400 से अधिक हो, जो स्थल आसान पहुंच से बाहर (दूरस्थ) हों। जहां नकल के प्रयास की शिकायत प्राप्त हुई हो संवेदनशील परीक्षा केन्द्रों घोषित किया जायेगा। बैठक में उप जिलाधिकारी अनिल गर्ब्याल, उप जिलाधिकारी लोहाघाट आरसी गौतम, जिला शिक्षा अधिकारी मा.डीएस राजपूत सहित खंड/उपखंड शिक्षा अधिकारी, प्रधानाचार्य आदि उपस्थित थे।

Category: चम्पावत

About ई टीवी उत्तराखंड

Etv Uttarakhand हम डिजिटल मीडिया प्लेटफॉर्म के द्वारा समाचारों, विचारों, साक्षात्कारों की नई श्रृंखला के साथ- साथ खोजी ख़बरों को कुछ हटकर पाठकों तथा दर्शकों के सामने लाने का प्रयास कर रहे है। हमारा ध्येय है कि हमारी खबरें जनसरोकारी हो, निष्पक्ष हों, सकारात्मक हो, रचनात्मक हो, पाठकों तथा दर्शकों का मार्गदर्शन करने में सहायक हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *