ऋषिकेशः डंपिंग ग्राउंड बना परेशानी का सबब

तीर्थनगरी ऋषिकेश के घनी आबादी के बीच में 80 बीघे की खाली पड़ी भूमि पर पिछले लगभग 20 वर्षों से कूड़ा डंप किया जा रहा है. अब आलम ये है कि इस पूरे मैदान से उठने वाली बदबू से लोग बीमार हो रहे हैं. लोगों का यहां से गुजरना भी दुश्वार हो गया है, वहीं इस कूड़े के मैदान की वजह से इसके आसपास बसे लगभग 5,000 से अधिक परिवारों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है.

कई बार इस कूड़ेदान को खाली कराने के लिए लोगों ने लिखित शिकायत की लेकिन किसी ने भी इस ओर ध्यान नहीं दिया. इतना ही नहीं हरिद्वार-ऋषिकेश राष्ट्रीय राजमार्ग से होकर गुजरने वाले लोगों को भी इससे खासी परेशानी का सामना करना पड़ता है. वहीं, इस डंपिंग ग्राउंड की वजह से ऋषिकेश की छवि भी धूमिल होती जा रही है.

कूड़े के मैदान को ऋषिकेश से बाहर करने को लेकर 50 दिनों से आंदोलन कर रहे हैं. आंदोलनकारियों का कहना है कि 50 दिन बीत जाने के बावजूद भी किसी ने भी इस ओर ध्यान नहीं दिया है, लेकिन अब ऋषिकेश महापौर को 60 दिनों का समय दिया गया है. अगर, इन 60 दिनों के बाद भी शासन द्वारा उन्हें किसी भी तरह का लिखित में आश्वासन नहीं मिलता है तो आंदोलनकारी शहर में उग्र आंदोलन करने को बाध्य होंगे.

वहीं, इस मामले में आंदोलनकारी अरविंद हटवाल ने बताया कि कूड़े को हटाने के लिए चाहे आमरण अनशन करना पड़े या फिर जल समाधि लेनी पड़े वह किसी भी हद तक जाने को तैयार हैं. वहीं, ऋषिकेश से कूड़े को हटाने के लिए बड़ी संख्या में क्षेत्रवासियों का भी समर्थन आंदोलनकारियों को मिल रहा है.

Category: ऋषिकेश

About ई टीवी उत्तराखंड

Etv Uttarakhand हम डिजिटल मीडिया प्लेटफॉर्म के द्वारा समाचारों, विचारों, साक्षात्कारों की नई श्रृंखला के साथ- साथ खोजी ख़बरों को कुछ हटकर पाठकों तथा दर्शकों के सामने लाने का प्रयास कर रहे है। हमारा ध्येय है कि हमारी खबरें जनसरोकारी हो, निष्पक्ष हों, सकारात्मक हो, रचनात्मक हो, पाठकों तथा दर्शकों का मार्गदर्शन करने में सहायक हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *