आपदा में किसी ने खोया घर , किसी ने गवाए परिजन

राजेन्द्र सिह चौहान

मोरी तहसील आपदा की मार जेल रहा है पूरा बंगाण क्षेत्र अब धीरे धीरे पटरी पर आ रहा हे। इस क्षेत्र में अधिकतर लोगों ने अपना सब कुछ खोया है। किसी ने घर, किसी ने अपने परिजनों को खोया है । लेकिन जिलाधिकारी उततरकाशी डाक्टर आशीष चौहान की तारीफ करनी होगी जिनके अथक प्रयास से सब कुछ अब धीरे-धीरे पटरी पर आने लगा है ।

इस काम के लिए उन्होंने आराकोट बेस कैम्प में डेरा डाल रखा था ।जिससे सडक विधुत पानी जैसी मूलभूत आवश्यकताएं पूरी हुई । लेकिन दिल के जख्म तो दिल में ही हैं , उन की भरपाई करना नामुमकिन है । लेकिन जिनके घरवार गये हैं सरकार ने अभी तक उनके बारे में कुछ नही सोचा है ।अभी भी वह लोग कहीं न कही शरण लेकर रह रहे हैं ।जैसे कुछ परिवार रा ई का आराकोट में ही रह रहे हैं ।

आखिर कब तक ये परिवार इस तरह रहेंगे  कई परिवारों के पास तो खडे रहेना लायक भी ज़मीन नही बची । जहाँ खेत खलिहान थे वहाँ आज नदी वह रही ही है।आज हम यह अनुमान भी नही लगा सकते हैं कि 18 अगस्त 2019 से पहले यहाँ खेत थे जिन पर सेब के बाग लगे थे । आज जैसे जैसे समय बीतता गया सब कुछ बदला सा नजर आ रहा है।
आज किसान/बागवान अपना सेब बडी गाडिय़ों में वरनाली से मण्डी के लिए भर रहे हैं । किराणु ,दुचाणु ,शिलोली मोटर मार्ग भी प्रगति पर है , वरनाली डगोली माकुडी मोटर मार्ग व वरनाली गोकुल झोटाडी मोटर मार्ग भी प्रगति पर है इन सभी में आवागमन शुरू हो गया है ।जीवन सामान्य हो रहा है।

वरनाली से जागटा चिवा मोटर मार्ग में काम चालू है लोक निर्माण विभाग पुरोला इस मार्ग पर तीव्र गति से काम करवा रहा है ताकि पाँच गाँव मौडा बलावट चिवां जागटा व थापली का सेब भी शीघ्र से शीघ्र मण्डी पहुंचाया जा सके । इस काम के लिए लोक निर्माण विभाग पुरोला व अन्य निर्माण ऐजैंसिया काम शीघ्र पूरा करवाने के लिए क्षेत्र में दिन रात काम करवा रही है। इनके अधिकारी व कर्मचारी भी इस समय क्षेत्र में डेरा डाले हुए हैं ।

Category: गढ़वाल

About ई टीवी उत्तराखंड

Etv Uttarakhand हम डिजिटल मीडिया प्लेटफॉर्म के द्वारा समाचारों, विचारों, साक्षात्कारों की नई श्रृंखला के साथ- साथ खोजी ख़बरों को कुछ हटकर पाठकों तथा दर्शकों के सामने लाने का प्रयास कर रहे है। हमारा ध्येय है कि हमारी खबरें जनसरोकारी हो, निष्पक्ष हों, सकारात्मक हो, रचनात्मक हो, पाठकों तथा दर्शकों का मार्गदर्शन करने में सहायक हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *